Monthly Archive: February 2016

0

Dard Ki is Mehfil Mein – Sharabi Shayari

दर्द की इस महफ़िल में एक शेर मैं भी अर्ज़ करता हूँ, ना किसीसे दवा और ना दुआओं की उम्मीद करता हूँ, कई चेहरें लेकर जीते हैं लोग यहाँ इस दुनिया में, मैं तो इन आंसुओं को एक चेहरें के लिए पीया करता हूँ !! Dard ki is mehfil mein Ek sher main bhi arz karta hoon, Naa kisise dawa aur naa duaaon ki umeed karta hoon, Kai chehre lekar jeete hain log yahan is duniya mein, Main to in aansuon ko ek chehre ke liye piya karta hoon!!

0

Usne Aise Ki Nigaahon Se Apni Baat – Romantic Shayari

उसने ऐसे की निगाहों से बात और मेरा दिल चुरा कर ले गए, अंधेरों के घने साये में अपनी धड़कन सुना गए, मैं तो समझता था एक अजनबी उनको, लेकिन वो तो मुझे अपना बना कर चले गए !! Usne aise ki nigaahon se apni baat aur dil churaa kar le gaye, Andheron ke ghane saaye mein, apni dhadkan sunaa gaye, Main to samajhata tha ek ajnabi unko, Lekin wo to mujhe apna banaa kar chale gaye !!

0

Nikaalo Apna Chaand Sa Mukhdaa

Nikaalo apna chaand sa mukhdaa, Bistar ke aagosh se, Ye subah tadap rahi hai, Deedar-e-Husn karne ko tera !! Shubh Prabhaat !! निकालो अपना चाँद सा मुखड़ा, बिस्तर के आगोश से, ये सुबह तड़प रही है, दीदार-ए-हुस्न करने को तेरा !! शुभ प्रभात !!

0

Bahut Achchhi Hansi Thi Kabhi Hamaari

बहुत अच्छी हँसी थी कभी हमारी, मगर जब से फँसा हूँ जाल में उनके, उनसे शर्माने का ये आलम है, कि अब हम रुक-रुक कर हँसने लगे हैं … Bahut achchhi hansi thi kabhi hamaari, Magar jab se fasa hoon jaal mein unke, Unse sharmaane ka ye aalam hai, Ki ab hum ruk ruk kar hasne lage hain…

0

Raat Kyaa Huyi Tum Roshni Ko Bhool Gaye – Good Night Shayari Hindi

रात क्या हुई तुम तो रोशनी को भूल गए, चाँद क्या निकला तुम तो सूरज को भूल गए, माना कुछ देर मैंने तुम्हे मैसेज नहीं किया, तो क्या तुम मुझे याद करना ही भूल गए… Good Night!! Raat kya huyi tum to roshni ko bhool gaye, Chaand kyaa niklaa tum to suraj ko bhool gaye, Maana kuchh der maine tumhe message nahi kiya, To kyaa tum mujhe yaad karna hi bhool gaye… Good Night!!

0

Tum Milkar Bhi Naa Miley – Hindi Sad Shayari

तुम मिलकर भी ना मिले, तुम्हे पाकर भी ना पाया, मैं तो यूं ही अधूरी रह गयी, जब तुम्हारा साया मुझको नज़र नहीं आया !! Tum milkar bhi naa miley, Tumhe paakar bhi naa paaya, Main to yoon hi adhoori reh gayi, Jab tumhaara saaya mujhko nazar nahi aaya!!