shukragujaar hoon e dost shayari

Shukrgujaar hoon main tumhaara e dost shayari

शुक्रगुज़ार हूँ मैं तुम्हारा ऐ दोस्त मेरी ज़िन्दगी में आने के लिए,

हर पल को बेहद सुन्दर बनाने के लिए,

तुम्हारे आने से मेरी हो गई है दुनिया ख़ुशनुमा,

शुक्रगुज़ार हूँ तुम्हारा मुझे इतना खुशनसीब बनाने के लिए

Shukrgujaar hoon main tumhaara e dost meri zindagi mein aane ke liye,

Har pal ko behad sundar banaane ke liye,

Tumhaare aane se ho meri ho gai hai duniya khushnumaa,

Shukragujaar hoon tumhaara mujhe itna khushnaseeb banaane ke liye

4 amazing good morning shayari

4 amazing good morning shayari for sharing

आपकी बंद आँखों को जगा दिया है मैंने,
सुबह का अपना पहला फ़र्ज़ निभा दिया है मैंने,
कभी मत यह सोचना की आपको ऐसे ही तंग किया है मैंने,
उठते ही सुबह उपरवाले के साथ आपको भी याद किया है मैंने…
गुड मॉर्निंग !

Aapki band aankhon ko jagaa diya hai maine,
Subah ka apna pehla farz nibha diya hai maine,
Kabhi mat ye sochna ki aapko aise hi tang kiya hai maine,
Uthte hi subah uparwale ke saath aapko bhi yaad kiya hai maine
Good Morning!

————————————–

गुज़र गई वो तारों वाली सुनहरी रात,
याद आ गई फिर से वही मीठी सी बात,
हो हर लम्हा तुम्हारी खुशियों से मुलाकात,
इसलिए करना मुस्कराहट के साथ अपने इस नए दिन की शुरुआत!!

Guzar gai wo taaron wali sunehri raat,
Yaad aa gai phir se wahi meethi si baat,
Ho har lamha tumhaari khushiyon se mulaakat,
Isliye karna muskuraahat ke saath apne is din ki shuruaat!!!

—————-

तुम नहीं होते तो हम कब का खो गए होते,
अपने इस जीवन से बहुत पहले ही रूसवा हो गए होते,
वैसे तो हम उठे हैं तुम्हे “गुड मॉर्निंग” कहने के लिए इस वक़्त,
वर्ना अब तक तो हम सो रहे होते…

Tum nahi hote to hum kab ka kho gaye hote,
Apne is jeevan se bahut pehle hi rooswa ho gaye hote,
Waise to hum uthe hain tumhe “Good Morning” kehne ke liye is waqt,
Warna ab tak to hum so rahe hote…

——————

तस्वीर के चाहे हज़ारों रंग क्यों न हो,

मुस्कराहट का रंग सबसे ख़ूबसूरत ही होता है….

शुभ प्रभात!!

Tasveer ke chahe hazaaron rang kyon naa ho,

Muskuraahat ka rang sabse khoobsurat hi hota hai…

Shubh Prabhaat!

naa dhan daulat

Naa dhan-daulat, naa shauhrat

ना धन-दौलत, ना शौहरत,

और ना वाह-वाह चाहिए,

कैसे हो? कहाँ हो?

बस इन दो शब्दों की परवाह चाहिए

Naa dhan-daulat, naa shauhrat,

Aur naa waah-waah chahiye,

Kaise ho? kahan ho?

Bus in do shabdon ki parwaah chahiye

bahut khoob meri maut ka

Bahut khoob meri maut ka tareeka

बहुत ख़ूब मेरी मौत का,
तरीका तुमने इज़ाद किया है,
मर जाऊँ मैं हिचकियों से,
इस क़दर तुमने मुझे याद किया है..

Bahut khoob meri maut ka
tareeka tumne izaad kiya hai,
Mar jaaun main hichkiyon se,
Is qadar tumne mujhe yaad kiya hai…

tumhaare ehsaas ki khushboo

Tumhaare ehsaas ki khushboo

तुम्हारे एहसास की ख़ुश्बू ,
मेरे रोम-रोम में समाई है,
अब तुम ही बताओ,
कि इसकी कौन सी दवाई है ??

Tumhaare ehsaas ki khushboo
mere rom-rom mein samaayi hai,
Ab tum hi batao,
Ki iski kaun si dawaayi hai??

saanson ka bikhar jaana

Saanson kaa bikhar jaana

साँसों का बिखर जाना तो बहुत ही आम बात है यारों,

जब कोई अपनों को याद करना छोड़ दे तो मौत उसी को कहते हैं …

Saanson kaa bikhar jaana to bahoot hi aam baat hai yaaron,

Jab koi apno ko yaad karna chhod de to maut usi ko kehte hain…

doob jaunga- main kisi saanjh shayari

Doob jaaunga main kisi saanjh

डूब जाऊँगा मैं किसी साँझ सूरज की तरह,

और तुम देखती रह जाओगी किनारों को बस यूँही…

Doob jaaunga main kisi saanjh sooraj ki tarah…

Aur tum dekhti reh jaogi kinaaro ko bus yoon hi…