Month: May 2018

jinhe pata hai akelaapan

Jinhe Pata Hai Akelaapan

जिन्हे पता है कि अकेलापन क्या तकलीफ़ देता है,
वो लोग अक्सर औरों के लिए मौज़ूद रहते हैं

Jinhe pata hai ki akelaapan kya takleef eta hai,
Wo log aksar auron ke liye maujood rehte hain…

ishq mein judaayi bhi hoti hai shayari

Ishq mein judaayi bhi hoti hai

इश्क़ में जुदाई भी होती है,
इश्क़ में तन्हाई भी होती है,
इश्क़ में बेवफ़ाई भी होती है,
तू थामकर देख मेरा हाथ तो पता चलेगा,
कि इश्क़ में सच्चाई भी होती है ।।

Ishq mein judaayi bhi hoti hai,
Ishq mein tanhaayi bhi hoti hai,
Ishq mein bewafaayi bhi hoti hai,
Tu thaam kar to dekh haath mera to pata chalega,
Ki ishq mein sachchayi bhi hoti hai

ye naa poochho

Ye naa poochho

ये ना पूछो,
कि ये ज़िन्दगी ख़ुशी कब देती है?
क्योंकि ये शिकायत उसे भी है,
जिसे ये ज़िन्दगी सब देती है

Ye naa poochho,
ki zindagi khushi kab deti hai?
Kyonki ye shikaayat use bhi hai
Jise ye zindagi sab deti hai

mere kandhe par

Mere kandhe par

मेरे कंधे पर
यूं इस क़दर गिरे तेरी आँखों से आँसू,
कि मेरी ये सस्ती सी कमीज़
बेशक़ीमती हो गई।

Mere kandhe par
Yoon is kadar gire teri aankhon se aansoon,
Ki meri ye sasti si kameej,
beshkeemti ho gayi…

socha tha bataunga dard e dil

Socha tha dard-e-dil bataunga tujhko

सोचा था दर्द-ए-दिल,
बताऊंगा तुझको अपना,
लेकिन तूने तो ये भी नहीं पूछा,
कि क्यों खामोश हूँ मैं..

Socha tha dard-e-dil,
bataunga tujhko apna…
Lekin tune to ye bhi nahi poochha,
ki kyon khaamosh hoon main

hoon main tumhaare hi paas mein shayari love

Hoon main tumhaare hi paas mein

हूँ मैं तुम्हारे ही पास में,
जरा ख्याल करके तो देख लो,
अपनी इन निगाहों की बजाय,
दिल का इस्तेमाल कर के देख लो…

Hoon main tumhaare hi paas mein,
Jaraa khyaal karke to dekh lo,
Apni in nigaahon ki bajaay,
Dil kaa istemaal kar ke dekh lo..

wo pyar hi kya shayari

Wo pyaar hi kya

वो प्यार ही क्या,
कि जिसमे कोई हिसाब हो..
अगर है तुम्हे प्यार किसी से,
तो बस बे-हिसाब हो…

Wo pyaar hi kya
Ki jisme koi hisaab ho…
Agar hai tumhe pyaar kisi se,
To bus be-hisaab ho….

haskar har dukh shayari love

Haskar Har Dukh Chhipaane Ki Shayari

हँसकर हर दुःख छिपाने की,
आदत है बड़ी मशहूर मेरी ,
लेकिन कोई हुनर काम नहीं आता,
जब इन होंठो पर किसी ख़ास का नाम आता है।

Haskar har dukh chhipaane ki,
Aadat hai badee mashhoor meri
Par koi hunar kaam nahi aata,
Jab in hontho par kisi khaas ka naam aata hai..