dosti par naaz shayari

Tumhaari dosti par naaz shayari

ऐ दोस्त तुम्हारी दोस्ती पर नाज़ करता हूँ,
मिलने की तुमसे हर समय ख़ुदा से फ़रियाद करता हूँ,
मुझे नहीं पता घरवाले कहते हैं,
कि मैं नींद में भी तुमसे ही बात करता हूँ।

E dost tumhaari dosti par naaz karta hoon,
Milne ki tumse har samay khuda se fariyaad karta hoon,
Mujhe nahi pata gharwale kehte hain,
Ki main neend mein bhi tumse hi baat karta hoon..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *