Yaaron Ki Kami Ko Pehchaanta Hoon Main – Friendship Shayari

यारों की कमी को पहचानता हूँ मैं,
इस जहां के दुःखों को जानता हूँ मैं,
तुम जैसे यारों के ही तो सहारे,
आज भी हँसकर जीना जानता हूँ मैं !!!

Yaaron ki kami ko pehchaante hoon main,
Is jahaan ke dukhon ko jaanta hoon main,
Tum jaise yaaron ke hi to sahaare,
Aaj bhi hanskar jeena jaanta hoon main !!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *