roj sawere sab kaliyan morning shayari

Roj sawere sab kaliyan khil jaati hain shayari

रोज सवेरे सब कलियाँ खिल जाती हैं,
मुझे आपकी मीठी यादों की गलियां मिल जाती हैं,
आपसे मिल तो रोज सकते नहीं,
पर सूरज की पहली किरण से मिलने की एक उम्मीद मिल जाती है

Roj sawere saari kaliyan khil jaati hain,
Mujhe aapki yaadon ki galiyan mil jaati hain,
Aapse mil to roj sakte nahi,
Par suraj ki pehli kiran se milne ki ek ummeed to mil jaati hain

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *