sad shayari aankh ke aansoo

4 Sad dard bhari shayari

तुम्हारी बेवफ़ाई ने,
कुछ ऐसा सिला दिया हमें,
ज़हर कम्बख़्त जुदाई का,
पिला दिया हमें।

Tumhari bewafai ne,
Kuchh aisa silaa diya humein,
Zahar kambakht judaayi ka,
Pilaa diya humein…

ज़रा गौर से पढ़ा कीजिये,
हमारे अल्फ़ाजों को,
क्योंकि किसी के लिए हमने,
सच में ज़िन्दगी तबाह की है अपनी।

Jara gaur se padha kijiye
Hamare alfaajon ko,
Kyonki kisi ke liye humne,
Sach mein zindagi tabaah ki hai apni..

बड़े ही दुःख देते हैं वो ज़ख्म, जो हमें बिना हमारी गलती के मिले हों…

Bade hi dukh dete hain wo zakhm, Jo humein bina hamari galti ke mile hon

बड़े ही मासूम होते हैं आँख के आँसू,
सिर्फ उनके लिए ही बहते हैं,
जिन्हे इनकी क़दर नहीं होती।

Bade hi maasoom hote hain aankh ke aansoo,
Sirf unke liye hi behte hain,
Jinhe inki kadar nahi hoti…

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *