7 extremely painful sad shayari

7 extremely painful sad shayari

बस इतना बता दो हमें, इंतज़ार करें आपका या बदल बदल जाएँ हम आपकी तरह

Bus itna bataa do humein, intezaar karein aapka ya badal jaayein hum aapki tarah…

अकेले ही गुज़ारनी पड़ती है यह तनहा ज़िन्दगी, हौंसला तो सब देते हैं लेकिन साथ कोई नहीं देता।

Akele hi gujaarni padhti hai yah tanhaa zindagi, haunsla to sab dete hain lekin saath koi nahi deta

बहुत ही दर्द देते हैं वो ज़ख्म, जिनके हम हक़दार नहीं

Bahoot hi dard dete hain wo zakhm, jinke hum haqdaar nahi…

Read more sad shayari here

रोक लेते तुम्हे हम अगर हक़ थोड़ा भी तुम पर हमारा होता,
ना काट रहे होते यूं रो-रोकर ज़िन्दगी अपनी,
अगर इस दिल में हमारे तुम्हारे अलावा कोई और होता

Rok lete tumhe hum agar haq thoda bhi tum par hamaara hota,
Naa kaat rahe hote yoon ro-ro kar zindagi apni,
Agar is dil mein hamaare tumhaare alawa koi aur hota

आप तो अक्सर कहते थे कि हर शाम हाल हमारा पूछोगे,
बस इतना बता दो कि बदल आप गए हो या आपके यहाँ शाम नहीं होती….

Aap to aksar kehte the ki har shaam haal hamaara poochhoge,
Bus itna bata do ki badal aap gaye ho ya aapke yahan shaam nahi hoti…

क्या दुआ मांगू कि वो लौट आएं मेरे पास,
क्या वो नहीं जानते कि उनके अलावा कुछ और नहीं मेरी ज़िन्दगी में।

Kya dua maangoo ki wo laut aayein mere paas,
Kya wo nahi jaante ki unke alawa kuchh aur nahi meri zindagi mein…

मंज़िल भी उनकी थी और रास्ता भी उनका था, बस एक हम ही तनहा थे और सारा जहां उनका था,
साथ ज़िन्दगी बिताने का ख्वाब तो हम लेकर चले लेकिन रास्ता बदलने का ख्याल उनका था…

Manzil bhi unki thi aur raasta bhi unka tha, bus ek hum hi tanhaa the aur saara jahaan unka tha,
Saath zindagi bitaane ka khwaab to hum lekar chale lekin raasta badalne ka khyaal unka tha

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *