Dard Ki is Mehfil Mein – Sharabi Shayari

दर्द की इस महफ़िल में एक शेर मैं भी अर्ज़ करता हूँ,
ना किसीसे दवा और ना दुआओं की उम्मीद करता हूँ,
कई चेहरें लेकर जीते हैं लोग यहाँ इस दुनिया में,
मैं तो इन आंसुओं को एक चेहरें के लिए पीया करता हूँ !!

Dard ki is mehfil mein Ek sher main bhi arz karta hoon,
Naa kisise dawa aur naa duaaon ki umeed karta hoon,
Kai chehre lekar jeete hain log yahan is duniya mein,
Main to in aansuon ko ek chehre ke liye piya karta hoon!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *